Notebook Making business idea in Hindi -->

Followers

23 सित॰ 2021

Notebook Making business idea in Hindi

Notebook Making business idea


कॉपी बनाने का व्यापार कैसे शुरू करें How to start Notebook Making Business idea  (लागत, मटेरियल लिस्ट, तरीका मशीन कीमत) 


कॉपी पढ़ाई के क्षेत्र में सबसे अधिक ज़रूरी सामान है. इसके बिना ना तो हम पढाई लिखाई कर सकते है और भी बहुत काम हैं जो बिना काँपीं के संभव नही हैं। अलग अलग विषयों की आवश्यकताओं के अनुसार अलग अलग तरह के कॉपी को बनाया जाता है, जिसके बाद काँपी को बाज़ार में लाया जाता हैं। और बाज़ार में इन काँपीं को विभिन्न कीमतों पर बेचा जाता हैं. ये नोटबुक, डे बूक, रजिस्टर, रफ़ वर्क और अलग अलग क्वालिटी और ब्रांड नाम के साथ मौजूद होते हैं, जिनको इनकी क्वालिटी के साथ अलग अलग कीमतों पर बेचा जाता है. अगर आप भी कापी का व्यवसाय शुरू करना चाहतें हैं। तो आप बहुत ही कम पैसे में नोटबुक का व्यवसाय स्टार्टप कर सकते हैं और अपने नाम या अपनी किसी भी ब्रांडिंग के साथ इन्हें बाज़ार में बेच कर बहुत पैसे कमायें जा सकते है. आपको Mi Shoppy पर इस व्यवसाय से जुडी सभी ज़रूरी जानकारियाँ दी जायेंगी.


Notebook Making business idea in Hindi

नोटबुक बनाने के व्यापार में लाभ (Notebook Making business profit)


आप पाँच किलो पेपर में लगभग अच्छी क्वालिटी की 30 से 35 नोटबुक बना सकते हो. अगर आप इसे बाज़ार जा कर या अपने घर से रिटेल में बेचें तो 20 रूपए प्रति पीस के हिसाब से बिकता है. एक नोट बुक बनाने में कुल लागत 10 रूपए की पड़ती है. और होलसेल मतलब थोक में इस तरह की नोटबुक की क़ीमत 12 से 13 रूपए की होती है. इस तरह से होलसेल में प्रत्येक नोटबुक में 2 रू से 3 रू का लाभ कमाया जा सकता है.


नोटबुक बनाने के लिए आवश्यक रॉ मटेरियल (Notebook making raw materials)


नोटबुक बनाने के लिए आवश्यक रॉ मटेरियल (कच्चा मॉल) के बारे में निम्नलिखित जानकारी दी जा रही है. इसके लिए अलग अलग तरह के  कोटेड या फिर अनकोटेड पेपर मतलब दिस्ता पेपर और बढ़िया गत्ते की आवश्यकता होती है.


रॉ मटेरियल की कीमत (Price of raw materials)


दिस्ता पेपर : दिस्ता पेपर की क़ीमत 55 रु से 60 रू प्रति किलोग्राम है। यह दाम क्वालिटी पर भी निर्भर करता हैं।

गत्ता : कवर के लिए प्रयोग होने वाला गत्ता 1 रूपया प्रति पीस होता है।


कहाँ से ख़रीदें रॉ मटेरियल (Place to buy of raw materials)


गूगल पर बहुत वेबसाईट के माध्यम से ऑनलाइन ख़रीदा जा सकता है.


नोटबुक बनाने के लिए मशीनरी (Notebook making machines)


इसके लिए इन सभी मशीन की आवश्यकता पड़ती है.                                  


  • पिन अप – पिन अप मशीन की मदद से नोटबुक में पेपर को पिन किया जाता है।
  • कटर मशीन – कटिंग मशीन से पेपर्स को काटकर इनको सही साइज दिया जाता है।
  • स्क्वायर मशीन – इस मशीन की मदद से पेपर्स को एक शेप दिया जाता है।


ये मशीनें 4 किलोवाट के हिसाब से बिजली ख़र्च करती है और इसे घरों में प्रयोग होने वाली बिजली से भी चलाया जा सकता है.


नोटबुक बनाने के लिए मशीनरी की क़ीमत (Price of Notebook making Machine)


इन मशीनों की कुल क़ीमत 5.5 लाख से 6 लाख के बीच में होती है. इसी तरह कम लागत में आप 150 Business Idea का व्यापार शुरू कर सकते है.


कहाँ से ख़रीदें : इसे गूगल पर कुछ वेबसाईट के माध्यम से ऑनलाइन ख़रीदा जा सकता है:


नोटबुक बनाने की प्रक्रिया (Notebook making process)


नोटबूक बनाने का काम बहुत ही आसान है, मतलब की अगर  एक बार इस मशीनरी की जानकारी हो जाये तो बहुत आसानी से नोटबुक बनायी जा सकती हैं. इसकी पूरी जानकारी नीचे दी जा रही है.


1- सबसे पहले आप नोटबुक के कवर को तैयार करे फिर आप नोटबुक की जितनी लम्बाई चौड़ाई चाहतें हो उसको उसी आकार में तैयार कर ले ।


2- अब आपको नोट्बुक के लिए कागज को तैयार करना होगा आप जितने कागज की नोटबुक बना रहे है उतने कागज निकालकर कवर के साथ रखे और उसके बाद कवर और पेपर की पिन अप मशीन की सहायता से पिनिंग शुरू करे।


3- अब इसके बाद स्क्वायर मशीन से उसका साइज सही करे और आकार तैयार करे । मतलब नोटबुक की फिनिशिंग करके उसे स्क्वायर शेप दे।


4- अब कटिंग मशीन से आप इसकी कटाई कर सकते हो और अगर कोई कागज ज्यादा बाहर निकल रहा है या फिर आकार में नहीं हैं उसको आप कटिंग मशीन की सहायता से ठीक कर सकते हो और इस तरह आपकी नोटबुक बनकर तैयार हो जायेगी।


5-  एक नोटबुक बनाने में ज्यादा से ज्यादा 5 मिनट का समय लगता है और इस तरह आपकी नोटबुक बाज़ार में बिकने के लिए तैयार हो जाती है।


People Read Now

Amazon Easy Store Franchise Registration Full Detail Hindi Mai - New!

LPG Gas Agency Kaise Khole Business Idea In Hindi - New!

Notebook Making business idea in Hindi - New!


नोटबुक बनाने के लिए समय (Notebook making process time)  


40 से 50 मिनट के अन्दर कम से कम 8 से 10 नोटबुक बन कर तैयार हो जाती हैं।


नोटबुक की पैकेजिंग (Notebook packaging)


नोटबुक बन के तैयार हो जाने पर इसे अपने हिसाब से पैक करना पड़ता है, अगर पैकिंग की बात की जाए तो इसे होलसेल या फिर रिटेल के रूप में पैक किया जा सकता है. होलसेल में पैक करने के लिए बड़े बड़े पैकेट्स बनाए जा सकते हैं, बड़े बड़े बैग्स में डीलर की आवश्यकता के अनुसार नोटबुक पैक किया जा सकता है. यदि आप रिटेल में अपना ब्रांड सीधे सीधे बाज़ार में बेचना चाहते हैं तो इसके लिए आपको प्रति पैकेट 6 कॉपी का पैक बनाएं और उन्हें अलग अलग स्टेशनरी की दुकानों पर बेंच सकते हो।


नोटबुक बनाने के व्यापार के लिए कुल खर्च (Notebook manufacturing business cost)


इस उद्योग की स्थापना के लिए कुल लागत 10 लाख रूपए के आस पास आता है. इन पैसों में आप ये मशीन भी ख़रीद सकते हैं और साथ ही रॉ मटेरियल भी ख़रीद सकते हो. इसके अलावा बिजली की वायरिंग और छोटे मोटे ख़र्च भी इसी पैसे में हो जायगे.


इस तरह 10 लाख रुपयों की लागत से इस उद्योग की शुरुआत बहुत ही आसानी से कर सकते हो. और अपना नोटबुक ब्रांड बाज़ार में उतार सकते हो और पैसे कमा सकते हो.


क्या यह व्यवसाय चलेगा (Will This Business Work)


तो आइए जानते हैं, नोटबुक को बाज़ार में बिकने के महत्वपूर्ण कारण :


1) आजकल लोग ज्ञान के प्रति अधिक जागरूक हो चुके हैं।


2) साथ ही आजकल हर इंसान के चाहे वह किसी समुदाय से हो शिक्षा के रास्ते खुल चुके हैं।


3) जनसख्या बढ़ रही है , और यह भी एक कारण है कि यह व्यवसाय बढ़ रहा है।


4) स्कूलों ऑफ़िस और कार्यालयों की संख्या में  बढ़ोतरी हो रही हैं।


5) सरकार, सर्व शिक्षा अभियान के अन्तर्गत हर किसी को शिक्षा उपलब्ध करने में लगी हुई है।


यही सब कारण है की आज शहरों में ही नहीं बल्कि ग्रामीण क्षेत्रों में भी नोटबुक की मांग बढ़ रही है। सरकार के मज़बूत प्रयासों से भी आज स्कूल और कार्यालयों कि संख्या में बढ़ोतरी हो रही है।


कितने प्रकार की पुस्तकें होती हैं (How many Type of Books Are There)


दोस्तों हमारे देश में विद्यार्थियों की संख्या बहुत अधिक है वहीं उनके द्वारा प्रयोग की जाने वाली पुस्तकों में भी बहुत प्रकार के अंतर है। जितने अधिक विद्यार्थियों उतनी ही तरह की डिमांड, सबसे ज़्यादा प्रयोग होने वाली पुस्तकें है -


  • एक्सरसाइज बुक
  • ड्राइंग बुक
  • नोटबुक
  • रिकॉर्ड बुक
  • नोट पैड


इन सब में सबसे ज्यादा प्रयोग में जो होती है वह है नोटबुक। शायद आप जानते होंगे की नोटबुक वह वस्तु है जिसका प्रयोग विद्यार्थी पूरे साल करता है। अगर आप अपना रोज़गार नोटबुक बनाने में शुरू करना चाहते हैं तो आपको सबसे पहले अपने आस पास कि स्टेशनरी की दुकानों पर जाकर पता करना होगा कि उन्हे साल भर में कितनी नोटबुक कि खपत होती है।


किस प्रकार से प्रचार करे अपने व्यवसाय का (How To Promote Your Business)


अगर आप यह सोच रहे है कि नोटबुक व्यवसाय को कैसे बढ़ाया जाएगा तो इसका सबसे आसान तरीका यह है कि


1) आप खुद लोगो से जा कर मिलें अपने जान पहचान वालों और दोस्तों को अपने व्यवसाय के बारे में बताएं।


2) जब तक आपका व्यवसाय बहुत बढ़िया नहीं चल जाता तब तक खुद ही सभी जगह समान पहुँचाने जाए। इस से आपके व्यवसाय बढ़ने की आशंका भी बढ़ जाती है।


3) आप अपनी कंपनी या ब्रांड के लिए प्रचार करें, विशाल सार्वजनिक क्षेत्र में सड़क के किनारे फ्लेक्सीज़ लगाएं। पैम्फलेटों का वितरण करे।


Kaise Kamaye - small business ideas in hindi


Conclusion :


हमारे देश में करीबन 23 करोड़ आबादी सिर्फ विद्यार्थियों की हैं। इसका फ़ायदा यह है कि विद्यर्थियों को नोटबुक कि भी ज़्यादा आवश्यकता होगी। तो अगर आप व्यवसाय करना चाहते हैं तो नोटबुक बनाने का बिजनेस करना यह एक सही में अच्छा विचार है।


हमें पूरी उम्मीद है कि हमारे द्वारा नोटबुक बनाने का बिजनेस कैसे शुरू करे की पूरी जानकारी आपको पसंद आयी होगी और आपको नोटबुक का बिजनेस शुरू करने में इससे काफ़ी सहायता मिलेगी तो आप हमारे इस पोस्ट को अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के लोगों में शेयर करें।

NEXT ARTICLE Next Post
PREVIOUS ARTICLE Previous Post
NEXT ARTICLE Next Post
PREVIOUS ARTICLE Previous Post
 

ALL GOVT YOJANA