Google, WhatsApp, Facebook, Bank, Mobile, internet, YouTube, email, Affiliate, Network Marketing, Apps, Blogging, Online, Se Paise Kaise Kamaye Puri Jankari Hindi Mai

Network marketing (MLM) Multi level marketing kya h Part 9

Network markiting sikhe aur paise kamaye, Part 9


नेटवर्क मार्केटिंग क्या है? इसके रहस्य What is Network Marketing in Hindi? Its Secrets 
Do you want to know Best Network Marketing success tips in Hindi? क्या आप नेटवर्क मार्केटिंग से जुड़ना चाहते हैं? 
नमस्कार दोस्तों आज हम आपको इस पोस्ट में Network Marketing MLM (Multi Level Marketing) की पूरी जानकारी देंगे जिसे कुछ लोग नेटवर्क मार्केटिंग (Networking Marketing) कहते हैं तो कुछ लोग चैन सिस्टम बिज़नेस (Chain System Business) या तो कुछ लोग पिरामिड स्कीम(Pyramid Scheme) कहते हैं।अगर आपको network marketing mlm (multi level marketing ) के बारे में पुरी जानकारी चाहिए तो आप हमारी वेबसाइट www.mishoppy.com पर click करके network marketing के part 1 से शुरूवात करे
Network marketing kya H
Network Marketing 



Network Marketing में सफलता के लिए विकास और प्रशिक्षण

105.  Network marketing में अपने डिस्ट्रिब्यूटर्स की श्रेणियाँ बना लें बड़ा नेटवर्क बनाने के लिए यह अनिवार्य है। Network marketing आपकी सफलता इस बात पर निर्भर करती है कि आप विभिन्न श्रेणियों के डिस्ट्रिब्यूटर्स को उचित मात्रा में समय देने में कितने सफल होते हैं। कई Network marketers उन डिस्ट्रिब्यूटर्स का पीछा करते-करते ख़ुद को थका लेते हैं, जो दिखते तो बहुत क्षमतावान हैं, परंतु वे दरअसल कभी मैदान में उतरते ही नहीं हैं।Network marketing में आप उस डिस्ट्रिब्यूटर का इंतज़ार करने में अपना बहुत सा समय बर्बाद कर सकते हैं, जिसने कहा था कि वह मीटिंग में आएगा, परंतु जो कभी मीटिंग में आया ही नहीं ।

Network marketing (MLM) Multi level marketing kya h

106. "ए" श्रेणी

ये वे लोग हैं, जो Network marketing बिज़नेस करने के इरादे से साइन करते हैं और सचमुच सक्रिय हो जाते हैं। ये बहुत मूल्यवान हैं। आपको इन्हीं के साथ अपना ज़्यादातर समय गुज़ारना चाहिए और इन्हीं पर ज़्यादा ध्यान देना चाहिए। आपको इन्हें जल्दी ही सही राह पर लाना चाहिए और परिणाम पाने में इनकी जल्दी से जल्दी मदद करना चाहिए, ताकि इन्हें "ईंधन" मिलता रहे और ये लगातार प्रेरित होते रहें।

107. "बी" श्रेणी

Network marketing में लोग विज़नेस करने के इरादे से साइन तो कर देते हैं, परंतु इसे करने के लिए दरअसल मैदान
में उतरते ही नहीं हैं, यानी वे कोई सक्रियता नहीं दिखाते हैं। Network marketing में आपका सबसे ज़्यादा समय उन्हीं के कारण बर्बाद होता है क्योंकि बे ए डिस्ट्रिब्यूटर के भेष में छुपे होते हैं और इसलिए आप उन्हें सक्रिय करने की कोशिश में अपना काफ़ी समय बर्बाद करते हैं। कई कारणों से वे बिज़नेस में गंभीरता से काम नहीं करते हैं, हालाँकि वे शुरुआत में रोमांचित लगते हैं। संभवतः इसका कारण यह है कि इस बिज़नेस में उनका विश्वास नहीं है और उन्हें अब भी इसकी अवधारणा या प्रॉडक्ट्स के बारे में शंका है या फिर उनके मन में यह डर है कि वे विश्वसनीय नहीं हैं। Network marketing में यह महत्वपूर्ण है कि आप इस समूह की पहचान कर लें और उन्हें या तो ए श्रेणी में पहुँचा दें या फिर सी श्रेणी में।

Network marketing (MLM) Multi level marketing kya h

108. "सी" प्रेणी

Network marketing में ये लोग सिर्फ इसलिए साइन करते हैं, ताकि वे थोक में सामान ख़रीद सकें । वे उपभोक्ता हैं और आपके संगठन का एक महत्वपूर्ण समूह है। संतुष्ट उपभोक्ता आगे चलकर अपना बिज़नेस भी बना सकते हैं, इसलिए यह महत्वपूर्ण है कि आप उनसे संपर्क बनाए रखें और यह सुनिश्चित करें कि उन्हें आपकी बिज़नेस बनाने वाली सभी बैठकों की जानकारी मिलती रहे।Network marketing से वे किसी दिन ऐसी किसी बैठक में आ जाएँगे और आपको हैरान कर देंगे। वैसे उन्हें ज़्यादा देखभाल की जरूरत नहीं पड़ती है, परंतु आप अपने संगठन के लिए उनका महत्व बढ़ा सकते हैं, बर्शते आप उन्हें प्रॉडक्ट्स, खासकर नए प्रॉडक्ट्स, के बारे में नियमित रूप से जानकारी उपलब्ध कराने रहें। लक्ष्य यह है कि वे ज़्यादा से ज़्यादा प्रॉडक्ट्स का उपयोग करने लगें।

109. "डी" श्रेणी

Network marketing में ये लोग सिर्फ आपसे पीछा छुड़ाने के लिए साइन करते हैं। अगर आप इस बारे में जागरूक नहीं हैं कि उसका बिज़नेस करने का दरअसल कोई इरादा ही नहीं है, तो आप उसके पीछे भागने में अपना बहुत सा समय बर्बाद करेंगे। अपने सभी डी श्रेणी के डिस्ट्रिब्यूटर्स से मुक्ति पा लें।

110. ए और बी श्रेणी में भेद करना

Network marketing में अक्सर यह सवाल पूछा जाता है कि ए और बी श्रेणी के डिस्ट्रिब्यूटर्स में भेद कैसे करें। बी श्रेणी का डिस्ट्रिब्यूटर दरअसल ए श्रेणी के डिस्ट्रब्यूटर का नक़ाब ओढ़े रहता है। उसे पहचानने का एक तरीक़ा यह है कि उससे संकल्प और समर्पण के बारे में पूछा जाए। आप उससे कह सकते हैं, "जॉन, मुझे लगता है कि आप बिज़नेस करना चाहते हैं और मैं चाहुँगा कि मैं अपना कुछ समय आपकी मदद करने में लगाऊँ। इसी तरह मैं आपसे भी दृढ़ समर्पण की उम्मीद करता हूँ। Network marketing में क्या आप अगले छह महीने तक हर महीने कम से कम 36 घंटे का समय बिज़नेस में देंगे?" अगर वह "नहीं" कहता है, तो संभवतः वह बी श्रेणी का डिस्ट्रिब्यूटर है। जब तक वह समर्पण का संकल्प न कर ले, तब तक बेहतर यही रहेगा कि उसे उपभोक्ता की श्रेणी में ही बने रहने दें।

Network marketing (MLM) Multi level marketing kya h

111. बी को ए में बदलना

Network marketing में आप किसी ऐसे व्यक्ति को प्रेरित कैसे करेंगे, जो निष्क्रियता का शिकार हो और काम शुरू नही कर पा रहा हो आप बी श्रेणी के डिस्ट्रिब्यूटर को ए श्रेणी के डिस्ट्रिब्यूटर में कैसे बदलें ? करने का एक प्रभावकारी तरीक़ा यह है कि आप उसे अपने ए श्रेणी के डिस्ट्रिब्यूटर्स के को रखें। उसका परिचय अपने सक्रिय और उत्साही ए डिस्ट्रिब्यूटर्स से करवाएँ, ख़ासकर उनमे जिनकी पृष्ठभूमि उससे मिलती-जुलती हो। हो सकता है उनका जादू उस पर भी असर छोड़ दे।

112. ए को पोषण देना

Network marketing में आपके ए श्रेणी का डिस्ट्रिब्यूटर ए श्रेणी का ही बना रहे, यह सुनिश्चित करने के लिए आपको उसे पोषण देना होता है। लगातार संपर्क में बने रहना बहुत महत्वपूर्ण है, खासकर शुरुआती महीनों में। यह उसके विकास का दौर है और सब जानते हैं कि इस दौरान उसे बहुत सी नकारात्मक बातों तथा चुनौतियों का सामना करना पड़ेगा। जब वह कुछ समय के लिए नीचे गिर जाए, तो उसे उठाने के लिए आपको उसके पास मौजूद होना चाहिए। Network marketing संबंधों पर आधारित बिज़नेस है और आपका सबसे महत्वपूर्ण संबंध अपने ए श्रेणी के डिस्ट्रिब्यूटर्स के साथ होता है।

113. परस्परता के नियम का अभ्यास करें

Network marketing का नियम यह है कि अगर आपका डिस्ट्रिब्यूटर सही दिशा में एक क़दम आगे बढ़ाता है, जैसे आपको अपने लक्ष्य बताता है, तो आप उसके साथ दो या उससे ज़्यादा क़दम आगे बढ़ाएँ, जैसे उसकी प्रशंसा करें और उन लक्ष्यों के बारे में चर्चा करने के लिए समय दें। बी श्रेणी के डिस्ट्रिब्यूटर्स से लक्ष्य पूछने के लिए उनका पीछा करने के बजाय ऐसा करने से ज़्यादा सकारात्मक परिणाम मिलते हैं।

Network marketing (MLM) Multi level marketing kya h

114. 80-20 का नियम

विचार क्रमांक 93 के तारतम्य में 80-20 के नियम का अभ्यास करें। अपना 80 प्रतिशत समय अपने उन 20 प्रतिशत डिस्ट्रिब्यूटर्स के साथ बिताएँ, जो आपको 80 प्रतिशत परिणाम (या आमदनी) दे रहे हैं या देंगे Network marketing के  इस उद्योग में ऐसे लोग भरे पड़े हैं, जो सिर्फ बातें करते हैं और काम नहीं करते हैं। ये लोग पहले Network Marketing में रहे हैं या इसके तथाकथित विशेषज्ञ हैं. जो अपने अतीत की उपलब्धियों का बखान करने के इच्छुक रहते हैं कि वे क्या बन सकते थे. और उन्हें क्या बनना चाहिए था। परतु वे वह करने के इच्छुक नहीं रहते हैं, जो सबसे ज़्यादा महत्वपूर्ण है - बिज़नेस में मेहनत करना और नियुक्त करना, नियुक्त करना, नियुक्त करना।

115. विजेता को पहचानना

अधिकांश सफल नेटवर्क मार्केट्स इस बात पर सबसे ज्यादा पछताते हैं कि उन्होंने अपना समय गलत लोगों के पीछे बर्बाद कर दिया। इस सच्चाई को स्वीकार करें कि कुछ लोग इस बिज़नेस को कभी नहीं कर पाएँगे, चाहे आप कुछ भी कर लें। भले ही वे साइन कर दें और इस बिज़नेस जाएँ, परंतु वे इसमें कभी ज़्यादा सफल नहीं हो पाएँगे। यह सीखें कि कब पीछे हटना औोर प्रकृति को अपनी राह पर चलने देना है। हमें यह जानने की जरूरत है कि विजेता को से पहचाना जाता है। वरना हम खड़ी सीढ़ी पर किसी गाय को ऊपर धकेलने की कोशिश ही
करते रहेंगे।

116. सीखने की संस्कृति

नेटवर्क मार्केटिंग में हर सीखने वाले अनुभव के बाद अपने डाउनलाइन से पूछे, "आपने क्या सीखा ?" नियमित रूप से यह सवाल पूछने से सीखने की संस्कृति विकसित होती है। अपने डाउनलाइन्स को आपस में सीखने के अनुभवों का आदान-प्रदान करने के लिए प्रोत्साहित करें। उन्हें लेख प्रदान करें और पुस्तकें पढ़ने तथा टेप सुनने का सुझाव दें।

Network marketing (MLM) Multi level marketing kya h

117. प्रशिक्षण - रीढ़ की हइडी

प्रशिक्षण सफल नेटवर्क का आधार (रीढ़ की हड्डी) है आप अपने डिस्ट्रिब्यूटर्स के प्रशिक्षण को भाग्य भरोसे नहीं छोड़ सकते, यानी जो भी कंपनी से तत्काल उपलब्ध हो सके। प्रशिक्षण ऐसा
होना चाहिए, जिसे दोहराया जा सके। इसकी स्पष्ट योजना होना चाहिए और स्पॉन्सर को अपने डिस्ट्रिब्यूटर को व्यक्तिगत रूप से कोचिंग (मार्गदर्शन) भी देना चाहिए।Network Marketing  प्रशिक्षण सिर्फ क्लासरूम तक ही सीमित नहीं रहता। हालाकि क्लासरूम का प्रशिक्षण महत्वपूर्ण होता है, परंतु आमने-सामने की कोचिंग प्रक्रिया अधिक सशक्त होती है। कोचिंग न सिर्फ ज़्यादा प्रभावी है, बल्कि इसे दोहराना भी ज़्यादा आसान है। क्लासरूम प्रशिक्षण के अलावा दूसरे संसाधनों जैसे प्रशिक्षण ऑडियो और वीडियोटेप्स, प्रशिक्षण मैन्युअल्स और टेलीफोन कोचिंग या वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग का प्रयोग करना भी महत्वपूर्ण है। महत्पूर्ण वात यह है कि इसे आसान रखा जाए और इसे दोहराया जा सके।

118, कोर्चिंग - स्पाइनल कॉरईड

अगर प्रशिक्षण रीढ़ की हड़्डी है, तो कोचिंग मेरुरज्जु (spinal cord) है । आसान भाषा में कोचिंग का अर्थ है विज़नेस सीखने में डाउनलाइन की मदद करने की प्रक्रिया। यह प्रॉस्पेक्टिंग कॉल के बाद विस्तृत प्रश्न-सत्रों (de-brief sessions) या लक्ष्य-निर्धारण सत्र के रूप में हो सकती है। हालाँकि कई लोग इस प्रकार के "काम-करते-हुए" प्रशिक्षण देने की सराहना करते हैं, परंतु इसमें अक्सर सीखने के अवसर को अधिकतम नहीं किया जाता है। लीड्स को यह सीखने की ज़रूरत है कि वे डिस्ट्रिब्यूटर्स से सही सवाल पूछें, ताकि वे किसी घटना से हर सीखने योग्य बात को निचोड़ सकें। ये सवाल इस तरह के हो सकते हैं। 

नेटवर्क मार्केटिंग में क्या अच्छा हुआ और आपने इससे क्या सीखा ?

क्या अच्छा नहीं हुआ और हम किस चीज़ को बेहतर कर सकते थे?

अगर हम इसे दोबारा कर रहे हों, तो हम कौन सी चीज़ अलग तरीके से करना चाहेंगे? 

अगर उस व्यक्ति ने यह किया होता या वह किया होता, तो आप उससे कैसे निबटते

आप आज के अपने प्रमुख शिक्षण बिंदुओं को संक्षेप में कैसे बताएँगे ? 

चाहे आप अपने डाउनलाइन्स के साथ कॉल्स पर बाहर जा रहे हों या नहीं, चाहे आप लक्ष्य-निर्धारण सत्रों में उन्हें मार्गदर्शन दे रहे हों या नहीं, लीडर को समय-समय पर कोचिंग सत्र आयोजित करना चाहिए। इसे समीक्षा या रणनीतिक सत्र या योजना बैठक चाहे जो कहें, परंतु कोचिंग की प्रक्रिया को ज़रूर शामिल करें। यह लगातार सीखने की प्रक्रिया का हिस्सा है ।

यह भी पढ़े

Network marketing part 1

Network Marketing Topic

Network Marketing kya h

Post a comment

0 Comments